XXX Vale – Hindi XXX Stories For Adults

18+ Sexually Explicit Contents

गर्लफ्रेंड बनाकर चोदा फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी को हिंदी सेक्स स्टोरी

गर्लफ्रेंड बनाकर चोदा फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी को नई हिंदी XXX सेक्स स्टोरी फ्री : दोस्तों मेरी उम्र 23 साल है और हाईट 5 फिट 5 इंच है. दोस्तों आज मैं आप को मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी को अपनी गर्लफ्रेंड बनाकर चोदने की है. यह हिंदी फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में आज से करीब तिन महीने पहले की है. मेरे फ्रेंड की गदराई मम्मी का नाम प्रसनबु है और वो दिखने में एकदम गदराई माल लगती है. यहाँ भी देखें>> Stepmother and Stepson Ki Antarvasna Indian Desi Porn Video

उनके गदराई शरीरी को देखने के बाद बस देखते ही रहने और उनके साथ चोदा चादी करने का मन करता है. मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी की उम्र 38 के आसपास है पर दिखने में वो एक अनमैरिड लड़की के जैसी हॉट सामान दिखती है. उस हॉट गदराई सामान का फिगर 36-32-38 है और एकदम गोरी है और मखमली भी.. वो एकदम हसीन सामान है. उनका एक लड़का है जिससे मेरी दोस्ती क्रिकेट खेलते हुए हुई थी और वो मुझसे उम्र में 2 साल छोटा था..

गर्लफ्रेंड बनाकर चोदा फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी को हिंदी XXX सेक्स स्टोरी

गर्लफ्रेंड बनाकर चोदा फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी को नई हिंदी XXX सेक्स स्टोरी फ्री
गर्लफ्रेंड बनाकर चोदा फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी को नई हिंदी XXX सेक्स स्टोरी फ्री

सेक्सी प्रसनबु आंटी जी के नपुंसक पति एक गवर्नमेंट बैंक में काम करते है और किसी दूसरे शहर में उनकी पोस्टिंग है और इस कारण से वो सिर्फ़ सप्ताह की छुट्टी पर ही घर आ पाते है. मेरी और प्रसनबु आंटी जी के लड़के चूतड़ू राहुल की बहुत अच्छी दोस्ती हो गयी थी और हम रोजाना साथ में ही खेलते थे और साथ में घूमते भी थे. जब मैं पहली बार मेरे फ्रेंड के घर पर गया था तो मैं उसकी ब्यूटीफुल और गदराई मम्मी को देखता ही रह गया उन्हें देखते ही मेरा दिल उन्हें मेरी गर्लफ्रेंड बनाकर चोदने का करने लगा था.

क्या मस्त माल लग रही थी वो साली बहिन की लौड़ी? सलवार सूट में वो गदराई महिला एकदम अप्सरा जैसी लग रही थी और मेरा तो मन कर रहा था कि बस उन्हें वहीं पर पकड़ लूँ और न्यूड (नग्न) करके चोद डालूं और हमेशा हमेशा के लिए अपनी गर्लफ्रेंड बनाकर रख लूँ किन्तु वो मेरी मम्मी की उम्र की थी और मेरे फ्रेंड की ब्यूटीफुल और गदराई मम्मी भी थी इस करण में ऐसा बैसा कुछ कर नहीं सकता था।

वैसे गदराई प्रसनबु आंटी जी बहुत ही मिलनसार महिला थी और वो सबसे जल्दी ही घुल मिल जाती थी. मेरे फ्रेंड की गदराई मम्मी के गरम शरीरी को देखने की लालसा में मेरा चूतड़ू राहुल के घर पर आना जाना ज्यादा हो गया और में उसके घर पर जाकर मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के हॉट और गदराई शरीरी को मेरी गन्दी नजरों से देखने का एक भी मौका नहीं छोड़ता था..

कभी मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी निचे झुक कर झाड़ू लगती तो मुझे उनके मोटे मोटे बोबे लटके हुए दिख जाते.. कभी कपड़े धोती तो मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के बोबे के दर्शन हो जाते और में घर पर जाकर मुठ मार लेता था क्योंकि मेरी कुछ करने की हिम्मत नहीं होती थी. फिर एक दफे ऐसे ही जब प्रसनबु आंटी जी झाड़ू लगा रही थी और में मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के बोबे देख रहा था तो उन्होंने एकदम से मेरी तरफ देखा और इसके बाद मैंने नज़रे हटा ली।

तो प्रसनबु आंटी जी मुझे घूरकर देखने लगी.. किन्तु तब तक मैंने नज़रे नीचे कर ली और जब उनकी तरफ देखा तो उन्होंने मुझे एक स्माईल दी और किचन में चली गयी.. किन्तु मुझे कुछ समझ नहीं आया और फिर में यह बात सोचता हुआ अपने घर आ गया और में उसके बाद नाईट में सोचता रहा कि वो मेरे बारे में क्या सोच रही होंगी? और मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के बोबे को सोचकर मैंने मुठ मारी और सो गया।

उसके बाद नेक्स्ट डे जब में चूतड़ू राहुल के घर गया तो में मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी को ढूंड रहा था.. किन्तु वो मुझे कहीं पर भी दिखाई नहीं दे रही थी.. किन्तु जब में स्नानघर की तरफ गया तो वो नहा रही थी और स्नानघर में से पानी की आवाज़ आ रही थी. यह भी देखें>> 12 इंच लम्बा लण्ड दिखा कर जन सम्पर्क अधिकारी लड़की को चोदा नई गन्दी हिन्दी 18+ XXX सेक्स स्टोरी एकदम मेरा पैर स्नानघर के पास वाली टेबल पर लगा और वो आवाज़ प्रसनबु मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी ने सुन ली और उन्होंने दरवाजा थोड़ा सा खोलकर देखा तो तब तक में वहाँ से भाग गया था और फिर भी उस चुदाई की प्यासी औरत को में दिख ही गया था।

फिर वो नहाकर बाहर आई और सीधे अपने रूम में चली गयी और में चूतड़ू राहुल के रूम में कंप्यूटर पर गेम गेम रहा था और चूतड़ू राहुल छत पर अपनी गर्लफ्रेंड से फोन पर बात कर रहा था.. घर में सिर्फ़ में और प्रसनबु आंटी जी ही थे. तभी प्रसनबु आंटी जी अपने कपड़े बदलकर बाहर आई और मुझे देखने लगी और उन्होंने मुझसे पूछा कि तुम स्नानघर के पास क्या कर रहे थे? तो में बहुत डर गया और मैंने कहा कि कुछ नहीं बस में वहाँ से निकल रहा था तो मेरा पैर टेबल पर लग गया।

  होस्टल में सीनियर की बदबूदार गांड मारी और अपनी मरवाई Ass Fucking Hindi Chudai Ki Kahani

तो उन्होंने कहा कि तुम झूठ बोल रहे हो और क्यों तुम मुझे नहाते हुए होल से देख रहे थे ना? तो मैंने कहा कि नहीं आंटी जी ऐसी कोई बात नहीं है.. में तो बस वहाँ से गुजर रहा था. फिर उन्होंने कहा कि क्या तुम्हे में अच्छी लगती हूँ? तो मैंने कहा कि मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी कोई पागल ही होगा जो आपके जैसी परी को पसंद ना करे.. वो मेरे पास कंप्यूटर टेबल के पास वाली कुर्सी पर आकर बैठ गयी और बोलने लगी कि क्या बोल रहे हो तुम? में कहा ँ अच्छी लगती हूँ तुम्हारे अंकल तो आज कल मुझ पर ध्यान ही नहीं देते।

तो मैंने मेरे फ्रेंड की माँ से कहा कि तो क्या हुआ आंटी जी में हूँ ना आपका ध्यान रखने के लिए.. तो वो मुझसे थोड़ा चिपक कर बैठ गयी और मुझे लगा कि अब लाईन साफ़ हो जाएगी और मैंने मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के हाथ पर हाथ रख दिया और दबाने और सहलाने लगा.. मुझे ऐसा लगा जैसे मेरा सपना सच हो जाएगा. तभी उन्होंने मेरा हाथ हटा दिया और चली गयी और तब मेरी समझ में कुछ भी नहीं आया कि क्या करूं?

तभी इतने में चूतड़ू राहुल नीचे आ गया और मैंने सोचा कि अब तो गये काम से.. किन्तु मैंने हिम्मत रखी और कुछ समय चूतड़ू राहुल के साथ गेम खेलने के बाद में अपने घर चला गया. फिर घर जाकर में यह सोचता रहा कि अब क्या होगा? अगर आंटी जी नाराज़ हो गयी तो मुझसे बात नहीं करेगी और फिर में क्या करूँगा? तो कुछ दिन ऐसे ही गुजर गये और करीब 15 दिन के बाद चूतड़ू राहुल दोपहर में अपने कॉलेज के लिए निकल गया तो में उसके घर गया और मैंने सीडी लेने का बहाना बनाया और उस वक्त प्रसनबु आंटी जी घर पर अकेली थी और में यह बात जानता था।

फिर उन्होंने गेट खोल कर मुझे एक गदराई स्माईल पास करी और अपने साथ भीतर बुलाया.. में भीतर चला गया और मैंने हिम्मत करके उनसे पूछा कि आंटी जी क्या आप मुझसे नाराज़ तो नहीं हो ना? तो मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी ने कहा कि किस बात के लिए बेटा ? तो मेरी जान में जान आई और इसके बाद मैंने कहा कि वो आंटी जी मैंने कल आपका कोमल हाथ. तो मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी ने मेरी बात काटते हुए कहा कि क्या में सच में तुझे इतनी अच्छी लगती हूँ बेटा ?

तो मैंने मेरे फ्रेंड की ब्यूटीफुल और गदराई माँ से कहा कि हाँ आंटी जी आप मुझे बहुत अच्छी लगती है और मै आप से बहुत प्यार करने लगा हूँ.. तो उन्होंने कहा कि बेटा तू बड़ा चालाक है मौका पाकर अपने दोस्त की ही मम्मी पर लाईन मार रहा है और काम लगाने की सोच रहा है. तो मैंने कहा कि आंटी जी आप हो ही इतनी ब्यूटीफुल और गदराई माल.. तो उन्होंने मेरे बालों में धीरे से हाथ फेरा और कहने लगी कि मै तेरी मम्मी की उम्र की हूँ हट पागल है तू तो और एक बड़ी सी स्माईल दी और कहने लगी कि में तेरे लिए चाय लाती हूँ और उठकर अपनी मोटी डबलरोटी जैसी गद्देदार गांड मटकाते हुए किचन में चाय बनाने चली गयी।

इसके बाद मैंने सोचा कि में थोड़ी सी हिम्मत कर लूँगा तो आज मेरे फ्रेंड की इस ब्यूटीफुल और गदराई मम्मी के शरीरी के साथ पूरे मज़े कर पाउँगा.. में धीरे से मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के पीछे किचन में गया और उन्हें पीछे से पकड़ लिया.. यह भी देखें>> काजोल की गरम बुर मेरे स्पर्म से भर चुकी थी Hindi Sex Story मेरे हाथ मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के गोर गोर पेट पर थे. मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था और मैंने सोचा कि वो मुझे धक्का देंगी.. किन्तु उन्होंने मुझे धीरे से कहा कि कोई देख लेता तो बेकार में तमाशा हो जायगा बेटा कुछ ऐसा वैसा करने से पहले घर का दरवाजा तो अन्दर से बंद कर ले।

घर का दरवाजा भीतर से बंद करने वाली आंटी जी की बात सुनकर मैंने सोचा कि मेरी तो लाईफ ही बन गयी और उसके बाद में दरवाजा बंद करके वापस आया तो वो अपने शयनकक्ष में चली गयी थी. तो में भी मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के बेडरूम में चला गया और उस चुदाई की प्यासी औरत को पीछे से पकड़ लिया मेरे हाथ मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के पेट पर थे.. बहुत ही मस्त लग रहा था और मेरा काला मोटा लौड़ा उनकी डबलरोटी जैसी गद्देदार गांड के अंदर घुस रहा था।

इसके बाद मैंने मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के बोबे पर हाथ लगाया और उस चुदाई की प्यासी महिला के दूध से भरे दो दो किलो के मोटे मोटे बोबे आहिस्ता आहिस्ता दबाने लगा तो वो मोन करने लगी आह सीईइ उफ्फ्फ और मुझे बहुत ही आनंद आ रहा था. ऐसा लग रहा था कि यह वक़्त यहीं पर रुक जाए और में इनके दूध से भरे दो दो किलो के मोटे मोटे बोबे जोर जोर से दबाता रहूँ. फिर उन्होंने पीछे हाथ बड़ाकर मेरा काला मोटा लौड़ा पकड़ लिया जो कि अभी तक मेरी जीन्स को फाड़ने को कर रहा था और वो मेरी लम्बी मोटी लौड़े को सहलाने लगी।

  ऐश्वर्या की प्यासी योनि और मेरा उत्तेजित लण्ड अन्तर्वासना सेक्स कहानी

इसके बाद मैंने उस चुदाई की प्यासी औरत को पलटने को कहा तो वो जल्दी से पलट गयी और मैंने उनकी नशीली आखों के अन्दर देखा तो उनकी नशीली आखों में चुदवाने की हवस साफ साफ दिखाई दे रही थी.. मैंने फिर उनकी कमीज़ उतार दी और कमीज उतारते ही ब्रा के भीतर कैद बोबे मेरी आँखों के सामने झूलने लगे. फिर मैं पैडेड ब्रा के ऊपर से ही मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के मोटे मोटे बोबे को सहलाने और हलके हलके दबाने लगा. तो उन्होंने मेरी टी-शर्ट को निकाल दिया और में उस चुदाई की प्यासी महिला के लाल लाल होटों को चूसने और चूमने लगा.

मुझे चुम्मा चाटी करना सबसे ज़्यादा पसंद है इस कारण से में मेरे फ्रेंड की ब्यूटीफुल और गदराई मम्मी के रसीले लिप्स को बेतहाशा चूमने, चूसने लगा और मेरे ऐसा करने से उस चुदाई की प्यासी औरत को भी बड़ा आनंद आ रहा था और वो भी दबी दबी आवाज़ में मोन कर रही थी. यह भी देखें>> एक दिन की चुदाई के लिए अपनी वाइफ बना लीजिए Hindi Free XXX Hindi Nonveg Sex Story For Adults 18+ Hindi Chudai Kahani इसके बाद मैंने उस चुदाई की प्यासी औरत को धीरे से बिस्तर पर लिटा दिया और मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के पूरे बदन को चूमने लगा और साथ में मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के बोबे को भी सहला रहा था. अब मेरी निगाहें आंटी जी की सलवार पर गई और मेरे मन में उनकी सलवार खोलने का खयाल आया.

पहले तो करीब पांच मिनट मैंने सलवार के उप्पर से ही उनकी भोसड़ी को सहलाया फिर उसके बाद मैंने उनकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और उसे नीचे सरका दिया. अपनी सलवार के निचे उन्होंने काली कलर की ट्रांसपेरेंट पेंटी पहनी हुई थी और में उनकी ट्रांसपेरेंट पेंटी के ऊपर से उनकी गरमा गरम भोसड़ी को दबाने और सहलाने लगा. फिर वो और भी ज़ोर ज़ोर से मोन करने लगी आहह्ह्ह्ह सीईईईईईई मम्मी आह सीईईईईईई.. इसके बाद मैंने उनकी ट्रांसपेरेंट पेंटी को नीचे सरका दिया और उनकी भोसड़ी को देखने लगा।

क्या मस्त भोसड़ी थी उनकी? एकदम क्लीन शेव और फिर उन्होंने अपने दोनों पैर फेला दिए और में उनकी भोसड़ी के पास अपना मुहं ले गया. तभी वो बोलने लगी कि अरे पागल यह क्या कर रहा है? तो मैंने कहा कि आप देखती जाओ में क्या करता हूँ? और में उनकी भोसड़ी चाटने लगा. शायद आज कोई पहली बार उनकी भोसड़ी चाट रहा था इस कारण से उस चुदाई की प्यासी औरत को थोड़ा अजीब सा लग रहा था.

लेकिन अपनी गरम भोसड़ी चटवाने में उस चुदाई की प्यासी औरत को बहुत आनंद आ रहा था और वो बुरी तरह से किसी कुतिया की तरह मोन कर रही थी और तेज़ तेज़ साँसे ले रही थी और मुझे मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के हावभाव देखकर बहुत आनंद आ रहा था. तभी कुछ समय के बाद उनका बदन ऐठने लगा और में समझ गया कि उनकी गरम भोसड़ी का पानी निकलने वाला है तो में उनकी भोसड़ी को और भी ज़ोर ज़ोर से चाटने लगा और मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के बोबे को दोनों हाथों से बारी बारी से दबाने लगा और जोश ही जोश में उन्होंने अपना पानी छोड़ दिया जो में सारा पी गया।

फिर में उठ गया और उन्हें सम्भालने में थोड़ा टाईम लगा.. पाँच मिनट के बाद उन्होंने मुझसे कहा कि मेरे सुहाग ने मेरे साथ ऐसा कभी नहीं किया और मुझे आज बहुत आनंद आया. तुम बहुत अच्छे से करते हो और अब ज़रा तुम्हारा भी वो तो दिखाओ. यह भी देखें>> कुत्ते और महिला की चुदाई की कहानी Girl Dog Sex Story XXX Kahani मैंने कहा कि क्या आंटी जी? तो उन्होंने कहा कि वो.. तो मैंने कहा कि नाम लेकर बोलिए ना. तो उन्होंने कहा कि तुम्हारा लण्ड तो दिखाओ..

तो मैंने कहा कि खुद ही देख लो और फिर उन्होंने मेरी जीन्स उतारी और मेरी जोकि की चड्डी भी उतार दी और मेरे तगड़े लौड़े को पकड़कर आहिस्ता आहिस्ता बड़े प्यार और मोहब्बत से सहलाने लगी.. आंटी जी के हाथों का स्पर्श पाकर मेरा काला मोटा लौड़ा पूरे जोश में आ गया था और मुझे मेरे फ्रेंड की गदराई मम्मी के नर्म हाथों का स्पर्श बहुत ही अच्छा लग रहा था. तो मैंने कहा कि आंटी जी क्या अंकल आपकी भोसड़ी नहीं चाटते है?

तो उन्होंने कहा कि अरे उन्हें कहा ँ भोसड़ी चाटना आता है वो तो बस मेरी सलवार नीचे करते है और अपनी पेंट की चैन खोलकर अपनी छोटी सी लौड़े को बाहर निकालते है और भोसड़ी में डाल देते हे और 2 मिनट तक भीतर बहार शोर्ट मारकर सो जाते और मेरी प्यासी भोसड़ी और डबलरोटी जैसी गद्देदार गांड की चुदास भी शांत नहीं कर पाते और में हमेशा सेक्स करने के दौरान प्यासी ही रह जाती हूँ भला ऐसा भी चुदना कोई चुदना होता है.

लेकिन बेटा तूने तो मुझे चोदे बिना ही मेरा चिपचिपा सफेद पानी निकाल दिया.. तू बहुत ही प्यारा है आज से मेरा राज दुलारा है. इसके बाद मैंने कहा कि आंटी जी में आप के साथ अवैध सेक्स संबंध बनाकर वो सारे सुख दूँगा जो आपको मिलने चाहिए. फिर आंटी जी मेरी लम्बी मोटी लौड़े को सहला रही थी और मैंने कहा कि आंटी जी आप चुदवाने के लिए लेट जाओ..  

  जिम में मिली भौजाई की चुदास XXX Hindi Sex Kahani

इसके बाद मैंने उस चुदाई की प्यासी औरत को चोदने के लिए लिटा दिया और मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के पूरे बदन को चूमने लगा.. आंटी जी पागल हो रही थी और मोन कर रही थी आह सीईईई उह्ह्ह. फिर में मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के ऊपर आ गया और उनकी भोसड़ी पर लण्ड रगड़ने लगा तो वो अहह अह्ह्ह सीईईईई करने लगी. फिर में ज़ोर ज़ोर से लण्ड रगड़ने लगा..

मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी को बहुत आनंद आ रहा था और मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी ने एक दफे और पानी छोड़ दिया और उनका पूरा बदन ऐंठ गया. फिर मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी ने कहा कि और कितना तड़पाएगा.. डाल ना इसको अंदर.. तो मैंने धीरे से मेरे चूतड़ू फ्रेंड की मम्मी की भोसड़ी में थूक लगाकर लण्ड घुसा दिया और लण्ड आधा भीतर चला गया. भोसड़ी में आधा लण्ड जाते ही मेरे चूतड़ू फ्रेंड की माँ की जोर से सिसकियाँ निकल गयी सीईईईई अह्ह्ह उई माँ

फिर में अपने घुटनों के बल बैठ गया और मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के दोनों टांगों को पूरा फैला दिया और एक ज़ोर से शॉट मारा तो उनकी चीख निकल गई आहहह मम्मी दर्द के मारे मर गई रे और वो बोलने लगी अरे बेटा थोडा आहिस्ता आहिस्ता आमार से सेक्स कर में कहीं भागी नहीं जा रही हूँ अहह सीईईइ मम्मी मार डाला रे सीईईई इस लड़के ने तो . फिर में एक मिनट रुका और मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के दोनों मोटे मोटे ब्रेस्ट को दोनों हाथों से पकड़ लिया..

मेरे फ्रेंड की मम्मी के बोबे इतने बड़े थे कि मेरे हाथों में नहीं आ रहे थे और इसके बाद मैंने आहिस्ता आहिस्ता शोर्ट मारना प्रारम्भ करा और वो लगातार मोन किए जा रही थी.. यह भी देखें>> पति की मृत्यु के बाद अपनी बुर पराये मर्द से चुदवाने लगी हिंदी फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में में उस चुदाई की प्यासी औरत को आहिस्ता आहिस्ता चोद रहा था और मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के बोबे दबा रहा था और चूस भी रहा था.. मुझे आज जन्नत का सुख मिल रहा था और फिर चार पाँच धक्को के बाद उनका पानी निकल गया और वो एकदम निढाल हो गयी।

इसके बाद मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाल लिया और उस चुदाई की प्यासी औरत को घोड़ी बनने को कहा .. तो वो घोड़ी बन गयी और मैंने उनकी भोसड़ी में फिर से लण्ड घुसा दिया और उनकी डबलरोटी जैसी गद्देदार गांड को पकड़कर चुदाई करने लगा. इसके बाद मैंने अपनी एक उंगली को गीली करके उनकी डबलरोटी जैसी गद्देदार गांड के अंदर डाल दिया. उनकी डबलरोटी जैसी गद्देदार गांड बहुत तंग थी और मेरी उंगली जाते ही वो कहने लगी कि अहह मर गयी रे.. क्या कर रहा है पीछे क्यों उंगली डाल रहा है? आईईईई अह्ह्ह बाहर निकाल में अह्ह्ह मर जाउंगी प्लीज़।

तो मैंने अपनी उंगली बाहर नहीं निकाली और तेज़ शोर्ट मारने लगा. तभी मुझे लगा कि मेरा काला मोटा लौड़ा अब मेरे चूतड़ू फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी की गरम भोसड़ी के भीतर झड़ने वाला है.. तो मैंने उनसे कहा कि मेरा स्पर्म आने वाला है साली कुतिया रांड बता कहा ँ निकालूँ? तो उन्होंने कहा कि बेटा अपनी इस गदराई आंटी जी की चुत के भीतर ही निकाल दे मेरी चुत को भी तो पता चले की एक जवान लड़के के स्पर्म का स्वाद कैसा होता है.

तो मैंने तिन चार तेज़ धक्को के बाद एक जोर की आह के साथ उनकी गरम भोसड़ी में अपना स्पर्म छोड़ दिया और उनकी भोसड़ी का भी पानी छूट गया. इसके बाद मैंने लौड़े को उनकी स्पर्म से संदी चुत से बाहर निकाल लिया और मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के पास लेट गया और मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के बोबे चूसने लगा..

उन्होंने मुझसे कहा कि में शारीरिक संबंध बनाकर मेरे पूरे जीवन में आज की तारीख तक इतनी संतुष्ट कभी नहीं हुई जितनी संतुष्टि मुझे आज मिली है. फिर उन्होंने मुझे कहा की बेटा अब तू जब चाहे मेरी भोसड़ी चोद सकता है और मेरी डबलरोटी जैसी गद्देदार गांड भी मार सकता है आज से मैं तेरी गर्लफ्रेंड हूँ मेरी जान. किन्तु किसी को बताना मत की मैं अब तुम्हारी गर्लफ्रेंड बन चुकी हूँ नहीं तो मेरी बदनामी हो जायगी..

हम दोनों के बिच अवैध सेक्स संबंध हैं यह बात सिर्फ़ हम दोनों के बिच ही रहनी चाहिये हमारे अलावा किसी को पता नहीं चलना चाहिए की हम दोनों एक दुसरे के साथ लगे हुए हैं. तो मैंने कहा कि में किसी को नहीं बताऊंगा की आप मेरी गर्लफ्रेंड बन गई हो.. में आपसे वादा करता हूँ. फिर उस दिन मैंने मेरे फ्रेंड की हसीन सामान मम्मी के साथ 2 बार और अवैध सेक्स संबंध बनाए और फिर चुदाई खत्म करके अपने घर चला गया .