XXX Vale – Hindi XXX Stories For Adults

18+ Sexually Explicit Contents

होटल में घोड़ी बनकर चूतड़ मरवाई हिंदी संभोग कहानी

होटल में श्वान बनकर चूतड़ मरवाई – फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में :...

होटल में श्वान बनकर चूतड़ मरवाई – फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में : मेरा नाम दीपिका है मैं मारवाड़ की रहने वाली हूं, मेरी शादी को 10 वर्ष हो चुके हैं और मेरे स्मार्ट पति एक कंपनी में नौकरी करते हैं. मेरा एक लड़का है जो कि 8 वर्ष का हो चुका है. मेरे ससुराल में मेरी सास और ससुर हैं, मेरे देवर की शादी भी दो वर्ष पहले ही हुई है. मैं अपने घर के कामों में बहुत बिजी रहती थी इस कारण से मुझे बाहर के बारे में कुछ भी पता नहीं चल पा रहा था और मैं सोचने लगी कि मुझे कहीं पर नौकरी करनी चाहिए क्योंकि शादी से पहले मैं नौकरी कर रही थी और मैंने सोचा कि यदि मैं कुछ काम करूंगी तो मेरे मर्द की सहायता हो जाया करेगी क्योंकि हमारे बच्चे की फीस भी बहुत ज्यादा है और वह भी किसी प्रकार से मेहनत कर के उसकी फीस भरते है. >> रेल गाड़ी में श्वान बनाकरयोनी चुदाई करी 30 साल की जवान आंटी जी की गन्दी हिन्दी 18+ XXX फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में

मैं यह सोचने लगी तो मुझे लगा क्यों ना मैं कहीं पर नौकरी कर ही लेती हूं, मैंने इस बारे में जब अपने पति से बात की तो उन्होंने मुझे मना कर दिया और कहने लगे कि तुम यदि नौकरी करोगी तो घर का काम कौन संभालेगा, वह मुझे समझाने लगे कि यदि तुम नौकरी पर जाओगी तो अजय की वाइफ क्या कहेंगे, वह सोचेगी कि तुम काम से अपना जी चुरा रही हो इस कारण से तुम नौकरी करने के लिए जा रहे हो और उसे शायद इस बारे में बुरा लगे।

होटल में श्वान बनकर चूतड़ मरवाई फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में

होटल में श्वान बनकर चूतड़ मरवाई – फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में

इस बात से मैंने कई दिनों तक अपने दिमाग से नौकरी का ख्याल निकाल दिया परंतु एक दिन मेरी देवरानी मुझसे बोलने लगी कि घर में इतना काम होता नहीं है और हम दोनों ही इस पर लगे हुए रहते हैं, यह काम एक व्यक्ति भी संभाल सकता है. मैंने जब उससे अपनी नौकरी की बात कही तो वह बोलने लगी कि मुझे इसमें कोई भी आपत्ति नहीं है, मैं घर का सारा काम संभाल लूंगी यदि आप नौकरी करना चाहती हैं तो आप नौकरी कर सकती हैं. >> श्वान बनाकर गदराई लड़की को चोदा गेस्ट हाउस में हिंदी फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में

अब मुझे भी यह बात सुनकर बहुत प्रसनी हुई और मैंने जब इस बारे में अपने पति से कहा तो वह कहने लगे यदि वह राजी है तो तुम नौकरी कर लो क्योंकि मैं केवल इस वजह से चिंतित हूं कि घर में काम कौन संभालेगा. अब मैं भी पूरी तरीके से निश्चिंत हो चुकी थी, मेरी देवरानी का व्यवहार भी बहुत ही ज्यादा अच्छा है और वह हमारे बच्चे का भी ध्यान बहुत अच्छे से रखती है इस कारण से मैंने अब नौकरी के लिए अप्लाई कर दिया है किन्तु मुझे कहीं भी कोई अच्छी नौकरी नहीं मिल रही थी।

  विद्या बालन की चुदाई करके योनी के अंदर स्पर्म गिराया XXX Story

मैंने अपनी एक पुरानी फ्रेंड से जब इस बारे में बात की तो वह बोलने लगी कि मेरे परिचय में एक मेडिकल स्टोर है यदि तुम वहां पर नौकरी करना चाहती हो तो मैं उनसे बात कर लेती हूं. मैंने जब उसे पूछा कि क्या वह लोग मुझे अच्छी तनख्वाह दे पाएंगे, वह बोलने लगी कि उनका काम बहुत ही ज्यादा अच्छा है तुम एक दफे वहां पर चले जाओ. जब मैं वहां पर गई तो मेरी फ्रेंड ने उनसे बात की थी और उन्होंने मुझे काम पर रख लिया. मुझे ज्यादा दवाइयों के बारे में जानकारी नहीं थी क्योंकि मैंने मेडिकल फील्ड में कभी भी काम नहीं किया है. मैंने उनसे यह बात शुरुआत में ही कह दी थी. वह कहने लगे कोई बात नहीं तुम धीरे-धीरे सीख जाओगे।

मुझे भी लगने लगा कि चलो मैं धीरे-धीरे ही काम सीख जाऊंगी इस कारण से मैं अपने काम पर पूरा ध्यान देने लगी. मैं काम पर बहुत ही अच्छे से ध्यान देती थी और अब मैं दवाइयों के बारे में भी जानने लगी थी क्योंकि उनका मेडिकल स्टोर बहुत बड़ा है इस कारण से वहां बहुत ज्यादा भीड़ होती थी और उन्होंने बहुत सारे लोग काम पर रखे हुए थे. मुझे जब अपनी पहले महीने की तनख्वाह मिली तो मैं बहुत प्रसन हुई, उस दिन मैं अपने बच्चे के लिए भी गिफ्ट ले गई और कुछ पैसे मैंने अपने पति को भी दिए।

वह बहुत ही प्रसन हुए और मुझे कहने लगे कि चलो कम से कम तुम प्रसन हो और घर में कुछ पैसे भी आ रहे हैं क्योंकि उनकी भी बहुत मदत हो जाती थी इस वजह से मैं भी प्रसन थी. जहां पर मैं काम पर जा रही थी वह हमारे घर से ज्यादा दूर नहीं था, मैं बहुत प्रसन थी की मुझे अच्छा काम मिल गया है. मैं अपने काम में ही व्यस्त रहने लगी थी. मोर्निंग मैं जल्दी घर से चली जाती और उसके बाद शाम को ही मैं घर लौटती थी. मेरी देवरानी भी मेरे बच्चे का ख्याल बहुत ही अच्छे से रख रही थी और मैं बिल्कुल निश्चिंत होकर काम पर लगी हुई थी।

जिस मेडिकल स्टोर में मैं काम करती थी वहां पर कई मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव आते रहते थे और हमारे दुकान के जो मालिक हैं वह उनके साथ कई सालों से काम कर रहे हैं इस कारण से वहां उनका सामान रख लेते थे. वह सब बहुत ही अच्छी कंपनी से होते थे और वह लोग मुझे भी पहचानते थे क्योंकि मुझे काम करते हुए काफी वक्त हो गया था।

अब मैं उनका अकाउंट का काम संभालती थी. मैं उन लोगों से भी परिचित थी क्योंकि उनका जो हिसाब होता था वह मैं ही करती थी. मेरे पास एक राजीव नाम के व्यक्ति आते हैं, वह बहुत वक्त से आ रहे थे इस कारण से मैं उन्हें बहुत ही अच्छे से पहचानती थी. वह हमेशा ही मुझे भी कुछ न कुछ गिफ्ट देते रहते थे. मेरा उनसे बहुत ही अच्छा परिचय हो गया था. राजीव जी की उम्र हुई Forty five वर्ष के बीच में रही होगी और वह बहुत ही प्रसन दिल और अच्छे व्यक्ति हैं. वह जब कभी भी मेडिकल स्टोर में आते तो हमसे बहुत ही हंस कर बात किया करते थे और बहुत ही प्रसन रहते थे।

  बगल वाली भौजाई का पेटिकोट उतार फेंका और चुदाई करी हिंदी संभोग कहानी

जब कभी भी वह आते तो हमारे मेडिकल स्टोर में जितने भी लोग काम करते थे वह सब उन्हें देख कर प्रसन रखते थे इसी वजह से हमारा रिलेशन भी बहुत ही ज्यादा अच्छा हो गया था. एक दफे वह मेरे पास आये और कहने लगे कि कंपनी के द्वारा कोई स्कीम चलाई जा रही है यदि आपको भी कहीं घूमने जाना है तो आपको डिस्काउंट मिल जाएगा. मैंने उन्हें कहा कि क्या आपकी कंपनी ऑफर दे रही है, वह कहने लगे यहां जिन लोगों के साथ हम बिजनेस करते हैं केवल वह लोग ही जा सकते हैं, यदि आप जाना चाहती हैं तो मैं आपकी बात अपनी कंपनी में करवा देता हूं।

मैंने उन्हें कहा कि उसके लिए मुझे क्या करना होगा, वह कहने लगे कि आपको कुछ पैसे जमा करवाने हैं और उसके बाद कंपनी आपको कुछ कूपंस देगी जिससे कि आप घूमने के लिए जा सकती हैं और आप अपने फैमिली को भी अपने साथ लेकर जा सकती हैं. मैंने उन्हें कहा यह तो बहुत ही ज्यादा अच्छा है, मैं इस बारे में अपने पति से बात करूंगी यदि वह हां कह देते हैं तो मैं आपको उसके बारे में सूचित कर दूंगी. वह कहने लगे कोई बात नहीं आप कुछ दिन बाद मुझे इसके बारे में बता देना, मैं आपका करवा दूंगा।

मैंने जब इस बारे में अपने पति से बात की तो वह कहने लगे कि एक दफे तुम उनसे पूरी जानकारी ले लो, उसके बाद तुम मुझे बता देना क्योंकि काफी वक्त से हम लोग भी कहीं घूमने नहीं गए हैं और मैं भी सोच रहा हूं कि हम भी घूमने के लिए चले, यदि कंपनी के द्वारा कोई स्कीम चल रही है तो तुम उनसे जानकारी ले लेना।

मैंने जब राजीव से बात की तो उन्होंने मुझे उसकी पूरी जानकारी दी और वह कहने लगे कि आप थोड़ा वक्त निकालकर मेरे साथ मेरे दफ्तर में ही चल लेना, वह आपको सब कुछ समझा देंगे और मैं वापस आते वक्त आपको आपके घर छोड़ दूंगा, मैंन अपने मेडिकल स्टोर के मालिक से कहा कि मुझे आज जल्दी जाना है तो वह कहने लगे कोई बात नहीं तुम निकल जाओ और मुझे कुछ देर बाद ही राजीव जी मिल गए, वह मुझे अपने साथ अपनी बाइक में दफ्तर लेकर गए और वहां पर उन्होंने मुझे उसी स्कीम के बारे में पूरी जानकारी दी, मैंने कुछ पैसे भी उन्हें दे दिए. मैं बहुत प्रसन थी और उसके बाद राजीव जी मुझे कहने लगे कि मैं आपको घर पर छोड़ देता हूं।

  गुंजन गोरा तेरी लाल फुद्दी और चूतड़ में मेरा काला लौड़ा Hindi XXX Story

मैंने राजीव जी से कहा ठीक है आप मुझे मेरा घर छोड़ दीजिए जब वह मुझे घर ला रहे थे तो मेरे स्तनों उनसे टकरा रहे थे मेरा मूड उस दिन बहुत खराब होने लगा क्योंकि मैंने कई दिनों से अपने पति के साथ अच्छे से सेक्स नहीं किया था इस कारण से मैं सोचने लगी कि आज मैं अपनी फुद्दी राजीव जी से ही मरवाती हूं।

मैंने भी उनके पेनिस को पकड़ लिया और वह समझ चुके थे उन्हें क्या करना है. वह मुझे एक होटल में ले गए जब वह मुझे होटल में ले गए तो उन्होंने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मैं उनके सामने न्यूड (नग्न) थी मैंने उनसे कहा कि आज आप मेरी तमन्ना को पूरा कर दीजिए. उन्होंने मेरी योनी को चाटना शुरू कर दिया वह बहुत देर तक मेरी योनी को चाटने रहे मुझे बहुत आनंद आ रहा था जब वह मेरी योनी को चाटते जाते मेरा तरल पदार्थ पूरा बाहर की तरफ आने लगा. उन्होंने अपने पेनिस को मेरे मुंह से डाल दिया जैसे ही उनका लण्ड मेरे मुंह में गया तो मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा महसूस होने लगा मैं उनके पेनिस को पूरे भीतर तक ले रही थी।

उसके बाद उन्होंने मुझे श्वान बना दिया और श्वान बनाते ही अपने मोटे और कड़क पेनिस को पीछे से मेरी टट्टी से भरी गांड में डाल दिया मुझे बहुत तेज दर्द हुआ मैं चिल्लाने लगी मैंने पहली बार किसी से अपनी लेट्रिंग से भरी चूतड़ मरवाई थी. उनका लण्ड मेरी टट्टी से भरी चूतड़ के भीतर जाता तो मुझे बहुत ही ज्यादा दर्द होता किन्तु उन्होंने मुझे इतनी तेज गति से शोर्ट दिए कि मेरा पूरा शरीर दुखने लगा था और मुझे बहुत आनंद आ रहा था. उन्होंने मेरी टट्टी से भरी चूतड़ से ब्लड निकाल दिया और उनका लण्ड भी पूरी तरीके से छिल चुका था मुझसे भी उनके लौड़े की गर्मी बिल्कुल बर्दाश्त नहीं हो रही थी. वह भी मुझसे कहने लगे कि मुझसे आप की चूतड़ की गर्मी थोड़ा सा भी बर्दाश्त नहीं हो रही है उन्होंने इतनी तेज तेज मुझे झटके दिए कि कुछ वक्त बाद ही उनका स्पर्म मेरी टट्टी से भरी चूतड़ के भीतर ही गिर गया. जैसे ही उनका माल मेरी टट्टी से भरी गांड में गिरा तो मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा महसूस होने लगा।