XXX Vale – Hindi XXX Stories For Adults

18+ Sexually Explicit Contents

देसी आंटी की गरम चुदाई XXX Indian Hindi Chudai Ki Kahani Free

देसी आंटी जी की गदराई चुदाई XXX Indian Hindi Chudai Ki Kahani Free : मैं मुम्बई से हूँ और मेरी उम्र अभी 26 साल है. सब लोग अपनी अपनी हिंदी फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में लिखते हैं तो मैंने सोचा कि क्यों न मैं भी अपनी एक फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में लिख दूं जिसने मेरी ज़िंदगी को एक नए मोड़ पर लाकर रख दिया है. यह कहानी तब की है जब मैं B.Tech के आखिरी वर्ष में था. हाल ही में हमने चेन्नई में एक नया घर लिया था. घर उसी क़ॉलोनी में था जिस क़ॉलोनी में हम पहले किराए पर रहते थे. यहाँ भी देखे>> ऑडियो सेक्स लड़की से सुने फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में – भौजाई को छोटे देवर जी ने चोदा और लण्ड चुसाया MP3 Audio Sex Story

चूंकि मैं B.Tech की पढ़ाई कर रहा था तब किराया बहुत हो जाता था तो हमने खुद का घर ले लिया. घर ढूँढने में मेरे पिताजी के सहकर्मी की जोरू ने हमारी सहायता की और उनके बाजू वाली बिल्डिंग में ही हमें एक घर मिल गया. घर बहुत ही ज्यादा अच्छा था और मेरे पिताजी काम के सिलसिले में कभी कभार बाहर जाते थे. वैसे ही ऑन्टी, जिन्होंने हमें घर ढूंढने में सहायता की थी, उनके पति साल में 6 महीने बाहर रहते थे तो उन्हें भी मेरा सहारा मिल गया.

देसी आंटी जी की गदराई चुदाई XXX Indian Hindi Chudai Ki Kahani Free

देसी आंटी जी की गदराई चुदाई XXX Indian Hindi Chudai Ki Kahani Free

ऑन्टी का नाम माधुरी था जो कि बहुत कामुक महिला थी और माधुरी ऑन्टी ही इस कहानी की मुख्य नायिका है. ऑन्टी यहां चेन्नई में अकेली ही अपनी दो लड़कियों के साथ रहती हैं जिनमें से एक जॉब करती है जो मेरे से बड़ी है और दूसरी मेरे से 1 साल छोटी है वो जीव विज्ञान की पढ़ाई करती है. यहाँ भी देखे>> मेरी मौसी मुझसे ऐसी गन्दी गन्दी बाते करती है ऑडियो सुनो Hindi Audio Roleplay दोनों लडकियां मोटी सी हैं देखने में मगर शेप में हैं और एक भरे शरीर की मालकिन लगती हैं. दोनों के ब्रेस्ट इतने सुडौल और बड़े हैं कि टॉप में से झांकते उनके कबूतर किसी का भी लौड़ा खड़ा कर देंगे. गाँड़ का तो पूछो मत, इतनी मोटी और कड़क गाँड़ है उनकी कि चलती है तो ऐसा लगता है जैसे अपने पास बुला रही हो.

तो मेरे प्यारे गंड मरे भाइयों और चुदक्कड़ बहनों, अब मेरी कहानी शुरू होती है. हमने नया घर ले लिया था और घर में सब सेट हो गया था. इस काम में ऑन्टी ने बहुत सहायता की और अब अम्मी-पापा मुम्बई रहते थे. मुझे चेन्नई में सेट करने के बाद वो वापस मुंबई चले गये. घर पर मैं अकेला रह गया. मगर अभी एक समस्या बस खाने की रह गयी थी. मेरे घर में अभी तक मेरा खुद का गैस सिलेंडर नहीं था इस कारण से ऑन्टी ही मेरा सहारा थी. उन्होंने खुद ही बोल दिया था कि जब तक तुम्हारा अपना खुद का गैस सिलेंडर नहीं आ जाता है तो तब तक तुम मेरे घर पर आकर खाना खा सकते हो.

सेक्सी रांड ऑन्टी मेरे ऊपर काफी प्यार लुटा रही थी. उन्होंने साफ ही बोल दिया था कि जब कभी भी तुम्हें किसी भी चीज की जरूरत पड़े तो मुझे बता दिया करो. यहाँ भी देखे>>गांडू फ्रेंड की माल बहिन को ना जाने कितनी बार चोदा हिंदी फ्री अश्लील XXX सेक्स कहानी हिंदी में इस प्रकार ऑन्टी के कहने पर मैं उनके घर पर ही खाना खाने के लिए जाने लगा. इस तरह से ऑन्टी के साथ मेरी नजदीकी और भी बढ़ गई थी क्योंकि जहां पर खाने तक बात पहुंच जाती है तो फिर ज्यादा कुछ और औपचारिकता नहीं रह जाती है. मुझे भी ऑन्टी अपनी सी लगती थी. ऑन्टी भी मुझे अपने ही फैमिली के सदस्य की तरह रखने लगी थी. मैं भी बेहिचक उनके घर पर चला जाया करता था. इस तरह से उनके घर पर मेरा आना-जाना काफी बढ़ गया था.

फ्रेंडो, एक बात मैं आपको बता दूं कि मुझे बातें करने की आदत बहुत ज्यादा है. इस कारण से ऑन्टी के साथ हर वक्त मेरी कुछ न कुछ बात चलती ही रहती थी. इसी वजह से ऑन्टी और मेरे बीच में बहुत सारी बातें होती रहती थीं. ऑन्टी का भी अच्छा टाइम पास हो जाता था मेरे साथ में बातें करते हुए. चूंकि वो घर पर अधिकतर अकेली होती थीं तो उनका भी वक्त कट जाता था और इस दोनों ही काफी घुल-मिल गये थे.

फिर एक दिन एक अनहोनी हो गई. यारों कुछ यूं हुआ कि ऑन्टी अपने घर पर अकेली ही थी. न जाने कैसे किचन में उनका पैर फिसल गया और वो गिर गयी. किसी तरह उन्होंने मुझे फोन किया तो मैं तुरंत उनके घर पर पहुंच गया. घर पर पहुंचने के बाद मैंने मेरी कंचो जैसी मोटी मोटी आँखों से देखा कि ऑन्टी नीचे फर्श पर ही पैर पकड़ कर बैठी हुई थी. मैंने जाकर ऑन्टी से पूछा तो उन्होंने बताया कि उनके पैर में मोच आ गई है और उन्हें बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है. मैंने ऑन्टी के बताने पर एक स्प्रे उनके पैर पर लगाया. ( देसी आंटी जी की गदराई चुदाई XXX Indian Hindi Chudai Ki Kahani Free हिंदी सेक्स कहा नियाँ XXX Hindi Sex Stories )

  मुझ बेवा औरत को पुत्र के लण्ड ने चोदकर शांति प्रदान करी नॉनवेज सेक्स स्टोरी

स्प्रे करने के बाद मैंने ऑन्टी को उठने के लिए कहा क्योंकि गर्म ब्लड में उठना आसान होता है. इस कारण से ऑन्टी ने उठने की प्रयास की. किन्तु ऑन्टी से अब भी नहीं चला जा रहा था. ऑन्टी ने उठने की प्रयास की तो उनके पैर में अभी भी बहुत ज्यादा दर्द हो रहा था. इसके बाद मैंने खुद ही ऑन्टी की उठने में सहायता की. ऑन्टी ने मेरे कंधे पर हाथ रखा मेरे सहारे से वो धीरे-धीरे उठ कर चलने लगी. ऑन्टी को मैं उनके शयनकक्ष की तरफ लेकर गया ताकि वो उन्हें आराम से पलंग पर लिटा कर आराम करने के लिए कह सकूं. ऑन्टी मेरे सहारे से चल कर अपने शयनकक्ष तक पहुंच गई.

भीतर शयनकक्ष में ले जाने के बाद मैंने ऑन्टी को धीरे से पलंग पर बैठा दिया. ऑन्टी ने मुझसे कहा – शायद तुमने घर का दरवाजा खुला ही छोड़ दिया है. तो मैंने ऑन्टी के कहने पर जाकर घर का दरवाजा भीतर से बंद कर दिया. अभी ऑन्टी को मेरी जरूरत थी इस कारण से मैं भी ऑन्टी के पास ही रुकना चाह रहा था. किन्तु यारों अभी तक न तो ऑन्टी के ही मन में और न ही मेरे ही मन में कुछ गलत विचार आये थे. मैं घर का दरवाजा भीतर से लॉक करके वापस ऑन्टी के पास आ गया. ऑन्टी पलंग पर लेटी हुई थी.

ऑन्टी ने मैक्सी पहनी हुई थी. किन्तु उनकी मैक्सी ऊपर तक उठ गई थी. जब मैं रूम में घुस रहा था तो पहली बार मेरी निगाहें ऑन्टी के आधे नंगे टांगों पर गई. एक टाँग पर से तो मैक्सी जांघ तक पहुंच गई थी. यह देख कर मेरे मन में कुछ होने लगा था. ऑन्टी की जांघें काफी गोरी थीं. मैंने ऑन्टी का पैर देखने के बहाने से ऑन्टी के टांगों को छूकर देखा. ऑन्टी की जांघें काफी मुलायम सी थीं. ऑन्टी आंखें बंद करके पड़ी हुई थी.

मेरे भीतर अब हवस जागने लगी थी. मैंने बहाने से ऑन्टी की मैक्सी को थोड़ी सी और ऊपर सरका दिया तो ऑन्टी की जांघों के बीच में उनकी जालीदार पेंटी के भीतर उनकी फुद्दी छिपी हुई थी. उसको बाहर से देखने मात्र से मेरा लन्ड एकदम से खड़ा हो गया. ऑन्टी का एक पैर मेरी जांघ पर रखा हुआ था. किन्तु ऑन्टी के पैर के पास ही मेरे लन्ड में कसाव आना शुरू हो गया था. मेरा लन्ड एक मिनट के भीतर ही पूरा तन गया था. मैंने ऑन्टी का पैर थोड़ा सा और सरका दिया तो ऑन्टी का पैर मेरे खड़े हुए लन्ड से टच हो गया. ( देसी आंटी जी की गदराई चुदाई XXX Indian Hindi Chudai Ki Kahani Free हिंदी सेक्स कहा नियाँ XXX Hindi Sex Stories )

पैर जैसे ही मेरे लन्ड पर टच हुआ तो मेरे लन्ड एकशॉट मार दिया और ऑन्टी ने आंखें खोलकर बहाने से मेरे लन्ड की तरफ देखा. ऑन्टी ने मेरे खड़े हुए लन्ड को देख लिया था. उन्हें पैर से भी पता चल रहा था कि मेरा लन्ड भीतर ही उनकी फुद्दी में घुसने के लिए तड़प उठा है. इस कारण से ऑन्टी ने एक दफे देख कर दोबारा से अपनी आंखें बंद कर लीं और मैं ऑन्टी के पैर की मालिश करता रहा.

मेरे हाथ ऑन्टी की जांघों तक पहुंच रहे थे और ऑन्टी मेरे हाथों की मालिश के मजे ले रही थी. मैंने जान बूझ कर थोड़ा सा तेल उनकी जांघों पर ऊपर तक डाल दिया. ऑन्टी ने घुटनों से अपने पैर मोड़ लिये थे इस कारण से ऑन्टी की जांघों के ऊपर से बहता हुआ तेल उनकी फुद्दी पर जाने लगा था. मैं भी तो यही चाह रहा था कि तेल ऑन्टी की फुद्दी की तरफ बह कर चला जाये ताकि मुझे फुद्दी के करीब तक मालिश करने का अवसर मिल जाये. यहाँ भी देखे>>गार्डन में मोटे ब्रेस्ट वाली इंडियन स्कूल गर्ल गदराई ब्लू फिल्म देखते हुए विडियो

जब तेल ऑन्टी की फुद्दी तक पहुंच गया तो ऑन्टी ने एक सिसकियाँ सी ली. मैं समझ गया कि मेरा तीर निशाने पर लगा है. मैंने धीरे से मेरी तीन उंगलियां उनकी जांघ पर घुमाईं और सीधी उनकी पेंटी तक लेकर गया. किन्तु मैंने फुद्दी तक हाथ पहुंचने से पहले ही अपने हाथ को बीच में ही रोक दिया. मैं भी ऑन्टी को पूरी तरह से गर्म होते हुए देखना चाहता था. कई मिनट तक मैं ऐसे ही करता रहा. मैं ऑन्टी की फुद्दी तक हाथ को ले जाता था और बीच में ही रोक देता था. ऑन्टी की सिसकारियां धीरे-धीरे बाहर आ रही थीं.जब ऑन्टी काफी गर्म हो गई तो ऑन्टी के पैर ने हल्का सा दबाव मेरे लन्ड पर बनाना शुरू कर दिया. यह मेरे लिए अच्छा संकेत था कि ऑन्टी मेरे लन्ड के लिए गर्म हो चुकी है. वो बार-बार अपने पैर को मेरे लन्ड पर दबा रही थी किन्तु पूरा नहीं दबा रही थी बस हल्का सा ही प्रेशर दे रही थी.

  गदराई न्यूड मौसी को लण्ड पर बैठाकर झूला झुलाया Hindi Chudai Ki Kahani

ऑन्टी भी मेरे खड़े लन्ड का आनंद ले रही थी. जब कभी भी ऑन्टी का पैर मेरे लन्ड पर लगता था तो मेरा लन्डशॉट सा दे देता था. ऑन्टी पूरी गर्म हो चुकी थी. उन्होंने अपनी जांघों को थोड़ी सी और फैला दिया था और मुझे अब ऑन्टी की मैक्सी के भीतर फुद्दी साफ नजर आने लगी थी. मैंने धीरे ऑन्टी की फुद्दी के पास तक उंगलियां फिरानी शुरू कर दीं.

ऑन्टी के पैर ऊपर उठे होने के कारण ऊपर चल रहे पंखे की हवा भी ऑन्टी की फुद्दी पर लग रही थी. ऑन्टी की मैक्सी हवा में और सरक कर ऑन्टी की फुद्दी को बेपर्दा करने में लगी हुई थी.धीरे-धीरे करके ऑन्टी की मैक्सी पूरी पेट पर जाकर सिमट गई किन्तु ऑन्टी ने अपनी मैक्सी को ऊपर नहीं किया और ऐसे ही उनके पेट पर पड़ी रहने दिया. वो मुझे अपनी पेंटी के दर्शन करवा रही थी. ऑन्टी की जांघों के बीच में उनकी काली जालीदार पेंटी के भीतर ऑन्टी की फूल रही फुद्दी मुझे दिखाई देने लगी थी.

 

मैंने ऑन्टी की फुद्दी तक अपनी उंगलियां पहुंचानी शुरू कर दीं

लडकी कीयोनी में तेल डालते हुए और उंगली करते हुए फोटो Free Oiled Porn, Oil Sex Pics Tight Wet Pussy HD Porn Video New Full HD Porn XXX Nude Pic (1)

अब मुझसे भी कंट्रोल करना कठिनाई होता जा रहा था. मैंने ऑन्टी की फुद्दी तक अपनी उंगलियां पहुंचानी शुरू कर दीं. ऑन्टी की सिसकारियां भी तेज होने लगीं. ऑन्टी ने अपनी जांघों को और चौड़ी करके खोल दिया. ऑन्टी की पेंटी अब मुझे बिल्कुल ही करीब से दिखाई देने लगी. ऑन्टी की फूली हुई फुद्दी को देख कर मन कर रहा था कि बस ऑन्टी की फुद्दी को नंगी करके अपने दांतों से काट ही लूं. किन्तु मुझे भी ऑन्टी को गर्म करने और उनके लन्ड लेने के लिए तड़पाने में बहुत आनंद आ रहा था.

इधर मेरे लन्ड का हाल भी ऑन्टी की पेंटी के भीतर कैद बेहाल फुद्दी को देख कर बुरा हो चला था. मेरे लन्ड ने मेरी पैंट पर निशान बना दिया था और ऑन्टी अब मेरे लन्ड को पहले से ज्यादा जोर से दबाने लगी थी. मैं समझ गया था कि लोहा अब एकदम से पूरा गर्म हो ही चुका है और अब अपना वार करने का टाइम भी हो गया है.

मैंने ऑन्टी की पेंटी की तरफ हाथ बढ़ाया और पेंटी को खींच कर एक तरफ कर दिया तो ऑन्टी की फुद्दी के दर्शन मुझे हो गये. ऑन्टी भी इसी पल के इंतजार में थी कि कब मैं उनकी फुद्दी की तरफ अपना हाथ बढ़ाऊंगा. ऑन्टी की फुद्दी देखते ही अब मुझसे भी रहा न गया और मैंने ऑन्टी की गीली हो रही फुद्दी पर अपने लिप्स को ले जाकर रख दिया तो ऑन्टी सिहर उठी.

मेरे लिप्स के छूने से ही ऑन्टी कसमसा गई. ऑन्टी ने अपने हाथों को मेरे सिर पर लगा लिया और मेरे सिर को अपनी फुद्दी की पंखुड़ियों पर दबा दिया. मैंने मुँह खोल कर जबान निकाली और सीधी ऑन्टी की फुद्दी में घुसा दी. ऑन्टी जोर से सिसकारने लगी. अब बात दोनों के ही काबू से बाहर हो गयी थी. मैं उनकी कोमल फुद्दी के भीतर जबान को घुसेड़ कर उनकी फुद्दी का रस चूसने में मस्त हो गया था. ऑन्टी भी पागल सी हो उठी थी. वो बार-बार मेरे सिर को पकड़ कर अपनी फुद्दी पर दबा रही थी.

यहाँ भी देखे>> MP3 Audio Sex Story गदराई ताऊजी की फुद्दी को पेलने का चस्का लग गया इसके बाद मैंने ऑन्टी की मैक्सी के भीतर हाथ घुसेड़ कर उनके पेट से होते हुए उनके रसीले आम जैसे स्तनों तक हाथ ले गया. मैंने उनकी पैडेड ब्रा के ऊपर से उनके रसीले आम जैसे स्तनों को दबा दिया. ऑन्टी ने मेरे हाथों को अपने हाथों से दबा लिया और अपने स्तनों को दबाने लगी. जब ऑन्टी से रहा न गया तो वो उठ गई और मेरे लिप्स को चूसते हुए मेरे कपड़ों को खोलने लगी. साथ में ही ऑन्टी मेरे लन्ड को पैंट के ऊपर से पकड़ कर सहला रही थी. पाँच मिनट के भीतर ही ऑन्टी ने मुझे पूरा नंगा कर दिया. मैंने ऑन्टी की मैक्सी को उतार दिया और फिर उसकी फुद्दी को चाटने के लिए नीचे झुका तो ऑन्टी ने मेरे लन्ड को अपने हाथ में पकड़ लिया.

वो मेरे लन्ड को पकड़ कर सहलाने लगी और मुझे अपने साथ 69 की पोजीशन में लेटा लिया. मैंने ऑन्टी की गर्म फुद्दी में जबान डाल दी और ऑन्टी ने मेरे लन्ड को अपने मुँह में भर लिया. मैं ऑन्टी की रसीली फुद्दी को चाटने लगा और ऑन्टी मेरे लन्ड को चूसने लगी. हम दोनों ही मस्ती में खोने लगे. ऑन्टी भी पूरे मजे से मेरे लन्ड को चूस रही थी. फिर मैं उठ कर किचन में चला गया. वापस आया तो ऑन्टी अपनी फुद्दी को अपने हाथ से ही रगड़ रही थी. मैंने ऑन्टी की जांघों को अपने लिप्स से चूमते हुए फिर से उन्हें खतरनाक चुम्मी दी और ऑन्टी ने मेरे लन्ड को मुँह में ले लिया.

  फ्रेंड की माँ को प्रेग्नेंट करा चुदाई करके नॉनवेज सेक्स स्टोरी

 

जब मैंने ऑन्टी की फुद्दी पर ले जाकर अपना मुँह खोला तो ऑन्टी चीख उठी

pussy lip sucking (7)
pussy lip sucking (7)

जब मैंने ऑन्टी की फुद्दी पर ले जाकर अपना मुँह खोला तो ऑन्टी चीख उठी. मेरे मुँह के भीतर से मैंने छोटा सा बरफ़ का टुकड़ा ऑन्टी की फुद्दी पर छोड़ दिया था. ऑन्टी की फुद्दी गर्म थी और ऑन्टी को इस बात का अंदाजा नहीं था कि मेरे मुँह में बरफ़ भी हो सकती है. उसने जोर से मेरे मुँह को अपनी फुद्दी में दबा दिया. ऑन्टी की फुद्दी गर्म भी थी और मेरे ठंडे लिप्स के लगने से और भी ज्यादा गर्म हो गई थी. अब ऑन्टी लन्ड को भीतर डालने की विनती करने लगी.

मगर अभी मैं ऑन्टी को और ज्यादा तड़पाना चाह रहा था मुझे ऑन्टी को तड़पते हुए देख कर बहुत आनंद आ रहा था. इधर मेरे लन्ड का भी बुरा हाल था. इसके बाद मैंने ऑन्टी की फुद्दी में अपनी दो उंगलियां घुसा दीं और तेज गति से ऑन्टी की फुद्दी में उंगलियों से चुदाई करने लगा. ऑन्टी की फुद्दी में उंगली करके मैंने माधुरी ऑन्टी को पागल कर दिया. फिर ऑन्टी ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया. ( देसी आंटी जी की गदराई चुदाई XXX Indian Hindi Chudai Ki Kahani Free हिंदी सेक्स कहा नियाँ XXX Hindi Sex Stories )

चूंकि ये सब एकदम ही हो रहा था तो कण्डोम इस्तेमाल करने का तो कोई सवाल ही नहीं था. मेरा लन्ड ऑन्टी की फुद्दी पर टच हो गया. ऑन्टी जल्दी से लन्ड को फुद्दी में लेने के लिए उतावली हो उठी थी. किन्तु मैं फुद्दी के बाहर ही लन्ड को रगड़ता रहा. तभी ऑन्टी ने बताया कि उन्हें गरम मूत लग आया है. मैंने माहौल को और गर्म करने के लिए ऑन्टी से कहा कि यहीं पर कर दो ऑन्टी. ऑन्टी को भी ये आइडिया अच्छा लगा. मैंने ऑन्टी के फुद्दी पर अपना लन्ड रगड़ना चालू कर दिया. ऑन्टी ने मेरे लन्ड के ऊपर ही गरम मूत कर दिया. उनके गर्म गरम मूत से मेरा लन्ड भीग गया.

 

मैं ऑन्टी के लिप्स को चूसते हुए अपना लन्ड उनकी फुद्दी पर रगड़ने लगा

Anushka Sharma Hot Lip Lock Kissing Scene Indian Porn Video

अब मेरे भीतर और ज्यादा जोश आ गया. गरम मूत की धार बंद होते ही मैंने ऑन्टी को नीचे गिरा दिया और अपना लन्ड ऑन्टी की फुद्दी पर लगाकर उन्हें जोर से चूसने लगा. मैं ऑन्टी के लिप्स को चूसते हुए अपना लन्ड उनकी फुद्दी पर रगड़ने लगा. ऑन्टी ने नीचे हाथ ले जाकर मेरे लन्ड को पकड़ लिया और मेरे लन्ड को खुद ही अपने हाथ के सहारे से अपनी फुद्दी के मुँह पर लगा कर मुझे अपने ऊपर जोर से खींच लिया. ऑन्टी की फुद्दी गीली थी इस कारण से लन्ड गच्च से भीतर चला गया. अब दो बदनों का मिलन हो चुका था. मेरे लन्ड को लेकर ऑन्टी की फुद्दी फैल गई थी.

ऑन्टी ने मुझे जोर से चूमना शुरू कर दिया. ऑन्टी के नाब्लड मेरी पीठ पर गड़ गये. वो मेरी गर्दन को चूमने लगी. मैं भी ऑन्टी की फुद्दी में लन्ड भीतर बाहर करने लगा. माधुरी ऑन्टी की फुद्दी की गर्म चुदाई चालू हो गई थी. अब दोनों को स्वर्ग का सा आनंद आने लगा था. ऑन्टी मस्ती से भर गई थी और अपनी गाँड़ को उछाल कर मेरे लन्ड को पूरा अपनी फुद्दी में ले रही थी. रांड ऑन्टी के मुँह से जोर की चीखें निकल रही थीं- और करो चोद दो मेरी फुद्दी को, फाड़ डालो इसको, भर दो अपने स्पर्म से इसको उम्म्ह… अहह… हय… याह… ( देसी आंटी जी की गदराई चुदाई XXX Indian Hindi Chudai Ki Kahani Free हिंदी सेक्स कहा नियाँ XXX Hindi Sex Stories )

ऑन्टी ने मुझे और जोर से चुदाई करने के लिए उकसा दिया. मैं अब ज्यादा जोर से ऑन्टी की फुद्दी को पेलने लगा. मेरा लन्ड पूरा कड़क हो गया था. अब मैं ज्यादा देर नहीं रुकने वाला था. इस बीच में ऑन्टी ने अपने पैर से और हाथों से मेरे को कस कर पकड़ा और ‘हहहहह’ चीख के झड़ गई. बहुत दिनों से सेक्स न करने के वजह से बहुत पानी निकला उसका और मेरा लन्ड उस पानी में पूरा भीग गया. यहाँ भी देखे>> MP3 Audio Sex Story गदराई ताऊजी की फुद्दी को पेलने का चस्का लग गया किन्तु अभी भी मैंने ऑन्टी की फुद्दी की ठुकाई चालू रखी. फिर पाँच मिनट के बाद मेरे लन्ड ने भी अपना लावा ऑन्टी की फुद्दी में निकाल दिया. हम दोनों के बदन पसीने से तर-बतर हो गये थे. फिर हम दोनों शांत हो गये. मेरी ये गदराई कहानी और नया लिखने का प्रयोग कैसा लगा?